क्‍या यह तस्‍वीरें ख़ुशकिस्‍मती की हैं?

यह तस्‍वीर ग़ौर देखिए। वह शख्‍़स बेहद दयनीय व निरीह स्थिति में खड़ा है जिसने राम-मंदिर के नाम पर इस देश को नफ़रत की सतत आग में झौंक दिया था और बाबरी मस्जिद ध्‍वंस का आपराधिक कृत्‍य किया। उस नफ़रत की फसल को समूचा मुल्‍क़ आज भी काट रहा है। जिसने न जाने कितने ही जीवन तबाह किए, न जाने कितनी ही जिंदगियां छीन लीं।

नाम लाल कृष्‍ण आडवाणी। जो आज अपने रथ के बगल में चलने वाले सेवक के सामने अपनी असमर्थता ज़ाहिर कर रहा है। गद्दी तक पहुंचने के लिए इन्‍होंने जो आधार बनाया उसकी बलि हजारों लोग चढ़ चुके हैं। उन ग़रीबों-मेहनतकशों पर हुए पाशविक अत्‍याचारों के न्‍याय के लिए यह स्थिति पर्याप्‍त नहीं है !

मेरी यह बातें आपको ज़रूर अप्रिय लगती होंगी किन्‍तु यह सत्‍य है। इतिहास का चक्र हिसाब बहुत बारीक़ी से चुकता करता है। इतिहास इसका ग़वाह है।

हिटलर ने लाखों यहुदियों को केवल अपनी धार्मिक कट्टरता के चलते गैस-चैम्‍बर में धकेलकर तड़पा-तड़पाकर मार डाला था। उस दानवीय कृत्‍य के चिह्न आज भी पड़ें हैं जो नन्‍हें-नन्‍हें बच्‍चों, स्त्रियों एवं मेहनतकश आम लोगों की चीखों के दस्‍तावेज़ हैं। यह बात दिगर है कि भारत में जर्मनी जैसे होलोकास्‍ट एक नहीं अपितु टुकड़ों में बने हैं, जो कि समायांतर खोले जाते हैं और अल्‍पसंख्‍यकों को उनमें धकेला जाता है। जबकि मानस में एक स्‍थाई वह होलोकास्‍ट बना दिया गया है जो एक नस्‍ल विशेष को एक साथ ख़त्‍म कर देने के लिए तैयार है।

हिटलर का आत्‍महत्‍या के साथ अंत हुआ और मुसोलोनी को लोगों ने बीच चौराहे पर मारा था।

यह भारत के संदर्भ में ख़ुशकिस्‍मती है।

यह सत्‍य है कि इनकी कभी वहां राम-मंदिर बनाने की मंशा नहीं रही थी और न है। जबकि वो इस मसले की आग की बिनाह पर सत्‍ता पाने और देश को हिन्‍दू-राष्‍ट्र बनाना चाहते थे। साल 1987 में आरएसएस के सरसंघचालक बालासाहब देवरस ने विहिप के महामंत्री अशोक सिंघल को इस बात पर डाँट लगाई थी कि वे राम मंदिर निर्माण पर कैसे तैयार हो गए।

”इस देश में 800 राम मंदिर विद्यमान हैं, एक और बन जाए, तो 801वाँ होगा। लेकिन यह आंदोलन जनता के बीच लोकप्रिय हो रहा था, उसका समर्थन बढ़ रहा था जिसके बल पर हम राजनीतिक रूप से दिल्ली में सरकार बनाने की स्थिति तक पहुँचते। तुमने इसका स्वागत करके वास्तव में आंदोलन की पीठ पर छूरा भोंका है।”

इस बात का ख़ुलासा किया है वरिष्ठ पत्रकार और अयोध्या विवाद सुलझाने के लिए बने अयोध्या विकास ट्रस्ट के संयोजक शीतला सिंह ने। अपनी किताब ‘अयोध्या – रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद का सच’ में यह बात 110 नम्‍बर पेज़ पर लिखी है। इस सम्‍बन्‍ध में ‘सत्‍य हिन्‍दी’ नामक पोर्टल पर विस्‍तार से लेख छपा है। पढ़ें।

इसके उपरान्‍त आप इन तस्‍वीरों के मायने और प्रासंगिकता समझ सकते हैं। इस मुल्‍क़ की रूह से बेहद घिनौने तरीक़े से खिलवाड़ करने वाले इन लोगों की स्थिति का आप ख़ुद सही-सही अंदाज़ा लगा सकते हैं। उस पर अपने विचार बेबाक़ी से अभिव्‍यक्‍त करें।

12 Comments

  • ଭାସ୍କର ସେଠ says:

    आपके हिसाब से राम मंदिर बनाना चाइये या नहीं?
    मेरे माने तो मैं वहां ना राम मंदिर बनाता ना बाबरी मस्जिद । मैं तो एक विद्यालय या चिकित्सालय बनवाता ताकि हर सम्प्रदाय के लोगो को ज्ञान या चिकित्सा मोल सके। aap kya banana chahenge. Answer please.

  • Vibhor singh says:

    श्याम भाई आपका लेख अध्भुत है मुझे इस संबंध में जानकारी है ,मगर जो ज़हर इन लोगों ने व कथित पाखण्डी हिन्दुओ ने युवा पीढ़ी में झोक दिया है वो अब नही मिटाया जा सकता ,,,,

  • Mandeep says:

    मंदिर के नाम पर देदूंगा जान अपनी

  • Bharat mandloi says:

    भाई तुम किस तरह की किताबें पड़ना पसंद करते हो?

  • Node Aslam says:

    भाई परंतु क्या बाबर ने मंदिर तोड़ कर मस्जिद बनाई थी 🤔 इस पर आप की क्या रे है

  • sarafat says:

    Its a matter of justice .. aur hum sab supreme court judgement ku obey karna chahiye

  • Bahot khud bhai, istarha ki soch ki desh ko bahot zarurat h, ummed karta hun ye lekh jyada se jyada log pareh.

  • PRAVEEN says:

    Problem desh ki yahi h ki janta kisi ko sun padh leti aor sach Maan leti hai ye tasvir kya byan krti h aap hi btaiye kisi bhi chiz pta chalta h kya sb apni bhadas nikal rhe hai Kaam krne wala apna Kaam krta ja rha hai
    Itihas gwah hai julm Hindu muslim sikh sbhi pe huwe lekin tumhara yek bhi video post Muslim ye alawa kisi pe bhi nahi dekha

  • Rest in peace says:

    Shyam bhai you’re a great human being..
    I like ur critical thinking..

  • Rahul roy says:

    Babri masjid dwansh ka opradhik kritwa? Bht hi choti soch ..kaise keh dia yeh baat apne?? Sharm nhi ayi iss world mein 1 v hindu country nhi hai jbki bht muslim ..christan..yuhudi sb hai …khud ko convert q nhi krlete ..no doubt bjp playing mandir politics i agree …janmsthan hai ok ..800 mandir k sath never compare it …ap bht acche bolte hai but yeh bht galt kaha pakistan ..bangladesh par hindu o k upar itna crime horaha hai ..kbhi dimag mein nhi aya ek video banaye?? Han agar ap paise lekar bikgaye like z news n arnab …mubarsk ho dalali kijiye …samjhgaye honge i m not bhakt ..i m hindu.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *