<span class="vcard">सुशोभित</span>

कोरोना संकट में रो पड़ना तो अक्षम्य है, रो तो देश रहा है

भारत के प्रधानमंत्री एक विभाजित व्यक्तित्व के स्वामी मालूम होते हैं। जान पड़ता है उनकी कल्पनाओं में वास्तविकता के भिन्न भिन्न संस्करण हैं, किन्तु सोशल …
Read more About कोरोना संकट में रो पड़ना तो अक्षम्य है, रो तो देश रहा है

कभी कभी लगता है इस्लाम एक रिलीजन या फलसफा या चेतना की धारा नहीं बल्कि एक राजनैतिक आंदोलन है.

इधर फिर से यरुशलम में इजराइल और फलस्तीन के बीच टकराव जारी है। वो एक दूसरी कहानी है। लेकिन इस्लामिक मनोविज्ञान पर पैनी नज़र रखने …
Read more About कभी कभी लगता है इस्लाम एक रिलीजन या फलसफा या चेतना की धारा नहीं बल्कि एक राजनैतिक आंदोलन है.
Photo : Raj K Raj, Hindustan Times

जैसे पहली लहर आई थी और चली गई थी, यह भी आकर जाएगी

गए साल अक्टूबर में कोरोना का ग्राफ़ गिरने के बाद जब मित्रों ने समारोहपूर्वक मास्क का परित्याग कर दिया, तो मैं दो मास्क लगाने लगा। …
Read more About जैसे पहली लहर आई थी और चली गई थी, यह भी आकर जाएगी

चंद्रमा का कवि- सुशोभित

सुशोभित लेखक कहते हैं आदम के बाद किसी और मनुष्य ने वैसी तनहाई का अनुभव नहीं किया, जैसा माइकल कोलिन्स ने किया था। आदम पहला मनुष्य …
Read more About चंद्रमा का कवि- सुशोभित

ब्लैक होल अपडेटेड इट्स प्रोफ़ाइल पिक्चर!

बीते कल तक “ब्लैक होल” के फ़ेसबुक पेज पर उसकी अपनी कोई तस्वीर नहीं थी! अगर कोई आपसे पूछे कि 10 अप्रैल 2019 और 11 …
Read more About ब्लैक होल अपडेटेड इट्स प्रोफ़ाइल पिक्चर!

विवाह एक सांस्थानिक वेश्यावृत्ति है !

मेरे इस आप्तवाक्य पर उससे कहीं अधिक उपद्रव हो चुका है, जितना कि होना चाहिए! मालूम होता है कि फ़ेसबुक मित्र इस एक कथन से …
Read more About विवाह एक सांस्थानिक वेश्यावृत्ति है !